AUBR_BENIFITS-1.jpg

October 9, 2018

The currency in which this one-of-its-kind Bank deals in is only the Ramnaam and also the other chants given in the book. One can become a member of this Bank by simply submitting a completely written Ramnaam or Anjanamata book. Every Shraddhavan gets a passbook after becoming a member.

Sadguru Aniruddha says that whenever a Shraddhavan is in need of help or firm support during the difficult phases of his or her life, the Sadgurutattva or the Paramtattva will provide him all the necessary help through this ‘bank of Bhakti’. The interest provided to every individual will be in the form of Bhakti, which will be in proportion to the faith, love and affection he or she has for their Sadgurutattva.

The accounting year of the Bank is from ‘Aniruddha Pournima’ (full moon day of the Hindu month of Kartik) to ‘Aniruddha Pournima’. All the ‘Sadguru Shree Aniruddha Upasana centres’ are the branches of this Bank. With the Bank being universal, a Shraddhavan can submit a Ramnaam book in any of the centre branches.

Everyone must write and complete their book by themselves. The first page of the Ramnaam book (the ‘Arpan Patrika’) contains the name of the person who has written the book, his account number and the name of the person for whom the book is written. All such ‘Arpan Patrikas,’ i.e. the first pages of the books that the Shraddhavans submit are collected and worshipped on the full moon day or the eleventh day (Ekadashi) of the Hindu calendar months.

On submitting a minimum of 18 books in a year, a Shraddhavan gains annual membership of the Bank. On submitting 150 books in a period of 5 years starting from the date of the opening of the account, a Shraddhavan gets life membership of the bank. Also, Shraddhavans get numerous other benefits on the submission of a particular number of Ramnaam books. Idols of Shree Ganesh and also the ‘Sacchidananda Paduka’ are made from the pulp of these books submitted by Shraddhavans. Thus, apart from the pious medium of ‘Bhakti’ (worship), ‘Aniruddha’s Universal Bank of Ramnaam’ also contributes significantly to the protection of the environment in real life.

 

हिंदी मराठी


ramnam-bank-1280x640.jpg

October 8, 2018

The Ramnaam book, which comprises 220 pages, provides all a golden opportunity to write as well as recite the name of God and name of Sadguru. Ramnaam is to be written on the first 108 pages of this book which is followed by 28 pages each of “Shree Ram Jai Ram Jai Jai Ram”, “Krishna”, “Dattaguru” and “Jai Jai Aniruddha Hari”. Every name on every page of the Ramnaam book is written on the watermark of Shree Hanuman, the torchbearer on the path of ‘Bhakti’ and a server of Shree Ram.

Writing Ramnaam inside the outline of Shree Hanuman carries special importance. When the army of ‘Vanaras’ was to build a strong bridge from Rameshwaram to Lanka to bring back Seetamai, the architects among them, Nal and Neel, began with the construction of it. They had received education in architecture under Rishi Bhouma, who was the greatest of the teachers of the subject then. At that time, Shree Hanuman, realizing the enormity and rarity of the work, began writing the Ramnaam on each and every stone, which was used in the construction with his own hands. Because of the ‘Ramnaam’ inscribed on every stone, the massive and lifeless rocks and stones did not submerge in water, but floated instead, and lead to the formation of the bridge. Shraddhavans firmly believe that when they write the Ramnaam book, Shree Hanuman very easily builds bridges in their paths across multiple births.

Explaining the importance of the Ramnaam Bank, Sadguru Shree Aniruddha says, “Aniruddha’s Universal Bank of Ramnaam” is a highway for chanting God’s name, which leads even a common Shraddhavan on the path of a happy life and provides him with firm support.”

Sadguru Shree Aniruddha released the Ramnaam book for all Shraddhavans stemming from his solicitude as he wants them to gain merits from writing and chanting of the holy mantras.

The five mantras in the Ramnaam book are lively and succulent. Hanuman is immortal and chants Ramnaam eternally. Every time one chants Ramnaam, it mingles with the chanting of Ramnaam by Shree Hanuman. In short, Shraddhavans never feel alone when they write the Ramnaam book, but rather feel connected with the one – Shree Hanuman, who chants Ramnaam eternally. This is a very important aspect of writing the Ramnaam book.

We can also write this book for someone else on special occasions such as birthdays, anniversaries or also for their happiness and well-being and deposit it, dedicated to them. The Ramnaam book is designed in such a way that it endows merit on both the writer and the person for whom the book is written. Shraddhavans also believe that writing the Ramnaam book for a deceased person is a course to divine grace for the departed.

While writing Ramnaam book, the person writing it naturally performs one of the nine forms of ‘Navavidha Bhakti’, the “Shravan Bhakti” (listening) as while writing, the mantras are not only read but are also pronounced and thus listened. Therefore, Ramnaam book is a pure and sacred way of worship and meditation.

Ramnaam Book – Jap Count

Jap Jap Count
Ram
Shree Ram Jai Ram Jai Jai Ram
Krishna
Dattaguru
Jai Jai Aniruddha Hari

Store-ramnaam-book-08-1280x834.jpg

October 8, 2018

The Ramnaam (the name Shree Ram) is the most sacred name; so is the Gurunaam.” I am therefore starting a bank, a bank of the Ramnaam, the name of God.”

– Sadguru Shree Aniruddha

These words of Sadguru Shree Aniruddha marked the initiation of the project, which meant to provide joy and fill happiness in the lives of all Shraddhavans. This unique project, launched on 18th August 2005 is known as the ‘Aniruddha’s Universal Bank of Ramnaam’.

A common man still gets cold feet when it comes to a bank, banking transactions and its rules. However, the ‘Bank of Ramnaam’ drives away all sorts of fears, problems and anxieties. Every Shraddhavan feels the close bond with this Bank, which is based on simple rules.

In the very first month of its inception, 43,138 accounts were opened, and 62,158 Ramnaam books were deposited with the Bank.

 

मराठी  हिंदी 


AUBR_BENIFITS-1.jpg

October 3, 2018

‘रामनाम’ आणि त्याचबरोबर इतर जप लिहिणे हेच या आगळ्यावेगळ्या बँकेचे भक्तिचलन आहे. कमीत कमी एक वही लिहून ती जमा केली की ह्या रामनाम बँकेचा सभासद होता येते. सभासद झाल्यावर प्रत्येक श्रद्धावानाला एक पासबुक दिले जाते.

सद्‍गुरु श्रीअनिरुद्ध (बापू) सांगतात की, श्रद्धावानाला जेव्हा संकट काळात मदतीची, आधाराची खरी गरज असेल, तेव्हा सद्गुरुतत्व, ते परमतत्त्व त्याला ह्या ‘भक्ति बँकेतून’ आवश्यक तेवढे सहाय्य नक्कीच पुरवणार. ज्याचे त्याच्या सद्गुरुतत्त्वावर जेवढे प्रेम त्याला त्या प्रमाणात त्याचे ‘भक्तिरूपी व्याज’ सहाय्याच्या स्वरूपात मिळते.

बँकेच्या कामकाजाचे वर्ष अनिरुद्ध पौर्णिमा (कार्तिक पौर्णिमा) ते अनिरुद्ध पौर्णिमा (कार्तिक पौर्णिमा) असे आहे. सर्व ‘सद्‍गुरु श्रीअनिरुद्ध उपासना केंद्रं’ ह्या बँकेच्या शाखा आहेत. ही बँक युनिव्हर्सल असल्यामुळे श्रद्धावान आपली लिहून पूर्ण झालेली वही कुठल्याही शाखेत जमा करू शकतात.

प्रत्येकाची वही प्रत्येकाने स्वत:च लिहून पूर्ण करायची आहे. रामनाम वहीच्या पहिल्या पानावर (अर्पण पत्रिकेवर) आपले संपूर्ण नाव, खाते क्रमांक व वही कोणासाठी लिहिली आहे याची माहिती असते. श्रद्धावानांनी अशाप्रकारे जमा केलेल्या प्रत्येक वहीतील पहिली पाने (अर्पण पत्रिका) प्रत्येक महिन्याच्या पौर्णिमेला किंवा एकादशीला एकत्र करून त्यांचे पूजन केले जाते.

एका वर्षामध्ये श्रद्धावानाने किमान १८ वह्या जमा केल्यावर त्या श्रद्धावानाला त्या वर्षाचे बॅंकेचे वार्षिक सभासदत्व मिळते. खाते उघडलेल्या तारखेपासून पुढील पाच वर्षात १५० वह्या जमा केल्या, तर तो श्रद्धावान बँकेचा आजीव सभासद होतो. वही लिहिणार्‍या श्रध्दावानाला ठराविक वह्या लिहिल्यानंतर विशिष्ट लाभ मिळतात. श्रद्धावानांनी जमा केलेल्या ह्या रामनाम वह्यांपासूनच गणेशमूर्ती व सच्चिदानंद पादुका तयार केल्या जातात. त्यामुळे ही ‘अनिरुद्धाज् युनिव्हर्सल बँक ऑफ रामनाम’ भक्तिच्या पवित्र साधनाबरोबरच प्रत्यक्ष जीवनात आपल्या आजूबाजूच्या पर्यावरणाचे रक्षण करण्यासही मोलाचे योगदान देते.

 

हिंदी English

 


Store-ramnaam-book-08-1280x834.jpg

October 3, 2018

‘रामनाम वही’ ही २२० पानांची वही आहे, जी भक्तांना सोप्या स्वरूपात भगवत्‌नाम, गुरुनाम लिहिण्याबरोबरच नाम-उच्चारणाचीही सुवर्णसंधी देते. ह्या वहीत पहिल्या १०८ पानांवर ‘राम’ नाम लिहायचे असते. पुढील प्रत्येकी २८ पानांवर अनुक्रमे ‘श्रीराम जय राम जय जय राम’, ’कृष्ण’, ’दत्तगुरु’ व ’जय जय अनिरुद्ध हरि’ हा मंत्र लिहायचा असतो. रामनाम वहीच्या प्रत्येक पानावर भक्तिमार्गाचा अग्रणी, श्रीरामप्रभूंचा दास असणार्‍या श्री हनुमंताच्या साक्षीने प्रत्येक नाम लिहीले जाते.

श्रीहनुमंताच्या आकृतिबंधात ‘राम’ नाम लिहिण्याचे महत्त्व खूप वेगळे आहे. जेव्हा आपल्या श्रद्धेय सीतामाईला लंकेमधून आणण्यासाठी ‘श्रीरामेश्वर ते लंका’ असा अभेद्य सेतू वानरसैनिकांना बांधायचा असतो, तेव्हा स्थापत्यशास्त्रातील अत्युच्च आचार्य असणार्‍यात भौम ऋषींकडे शिक्षण घेतलेले नल व नील हे वानरवीर हा सेतू बांधण्याच्या कार्यास सुरुवात करतात. परंतु कार्याचे व्यापकत्व व दुर्गमता जाणून श्रीहनुमंत वेळीच पुढे सरसावतात व समुद्रात टाकल्या जाणार्यात प्रत्येक पाषाणावर स्वहस्ते ‘श्रीराम’ नाम लिहू लागतात. श्रीरामनामाने अजीव व जड पाषाणही पाण्यात बुडत नाहीत, तर तरंगतात व त्यांच्या समुदायाने समुद्रावर सेतू बांधला जातो. श्रद्धावान जेव्हा रामनाम वही लिहीत असतो, तेव्हा त्याच्याही जन्मजन्मांच्या प्रवासातील अनेक सुंदर सेतू असेच सहजतेने श्रीहनुमंत बांधून घेतात, अशी श्रद्धावानांची भावना आहे.

या रामनाम बॅंकेचे महत्त्व सांगताना सद्‍गुरु श्री अनिरुद्ध म्हणतात,‘अनिरुद्धाज् युनिव्हर्सल बँक ऑफ रामनाम’ म्हणजे भगवंताच्या नामस्मरणाचा एक महामार्ग, जो सरळसाध्या श्रद्धावानालाही सुखी जीवनाच्या वाटेवर घेऊन जातो, त्याला भक्कम आधार देतो.’

अशाप्रकारे जप लिहीण्याचा कोटीगुणे लाभ सर्व श्रद्धावान मित्रांनाही मिळावा ह्या तळमळीपोटीच सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धांनी ही रामनामाची वही दिली.

रामनाम वहीतील पाचही मंत्र जिवंत आहेत, रसमय आहेत. हनुमंत चिरंजीव आहे व अखंड रामनामाचा जप करतो. जेव्हा मी रामनाम उच्चारतो, तेव्हा ते रामनाम आपोआप हनुमंताच्या उच्चारात सामावले जाते. थोडक्यात, रामनाम वही लिहिताना मी एकटा नाही, तर हे नाम ‘जो’ नित्यत्वाने उच्चारत आहे, त्याच्याशी मी सहज जोडला जातो, हा महत्वाचा लाभ रामनाम वही लिहिण्याने मला मिळतो.

काही विशेष प्रसंगी म्हणजेच वाढदिवस, लग्न अशा निमित्ताने किंवा आपल्या आप्तांच्या सुख व समृद्धीच्या प्राप्तीसाठी त्यांच्या नावे वही लिहून जमा करता येते. ही वही जो श्रद्धावान लिहितो त्यालाही आणि ज्याच्या नावे ही वही लिहिली आहे त्यालाही याचा लाभ मिळेल. मृत व्यक्तीच्या नावे रामनाम वही लिहिली, तर दिवंगताला रामनामामुळे पुढची गती अधिक चांगली मिळते अशी श्रध्दावानांची भावना आहे.

रामनाम वही लिहिताना लिहिणार्‍याच्या हातून नवविधा भक्तीतील श्रेष्ठ ‘श्रवण’ भक्ती घडतेच कारण नाम लिहिताना डोळ्यांनी ते वाचले जाणार आहे, जप मनाने उच्चारला जाणार आहे व त्याच वेळी त्याचे सहज श्रवणही होणार आहे, म्हणूनच रामनाम वही म्हणजे सहज भक्ती करण्याचे, ध्यान करण्याचे पवित्र साधन आहे.

रामनाम वही – जप संख्या

जप जप संख्या
राम
श्री राम जय राम जय जय राम
कृष्ण
दत्तगुरु
जय जय अनिरुद्ध हरि

digital-ramnaam-book.jpg

August 31, 2018

बदलते हुए दौर के मद्देनजर इस रामनाम बही का अनोखा स्वरूप सद्‍गुरु श्रीअनिरुद्धजी के मार्गदर्शन अनुसार श्रद्धावानों के लिए उपलब्ध किया गया।

श्रद्धावानों का बढ़ता हुआ प्रतिसाद एवं टैकनॉलॉजी के इस्तेमाल से ७ अगस्त २०१८ को ’अनिरुद्धाज युनिवर्सल बैंक ऑफ रामनाम’ का अत्याधुनिक एवं प्रगत ‘डिजिटल’ संस्करण प्रस्तुत किया गया। स्मार्ट फोन्स एवं टैब में सर्वाधिक इस्तेमालवाले ‘ऐन्ड्रॉईड’ प्रणाली पर आधारित ‘ऑनलाईन/डिजिटल रामनाम बही’ उपलब्ध की गई। ‘ऐप्लिकेशन’ यानी ‘ऐप’ के स्वरूप में लाए गए इस डिजिटल संस्करण के रुप में रामनाम की संपूर्ण बैंक ही अब सीधे श्रद्धावानों के हाथों में आ पहुँची है।

गुगल के Play Store पर ‘https://play.google.com/store/apps/details?id=com.ramnaam_bank.ramnaambook‘ इस संकेत स्थल पर यह ऐप सभी के लिए उपलब्ध है। इस ऐप द्वारा ‘अनिरुद्धाज युनिवर्सल बैंक ऑफ रामनाम’ में नया अकाऊंट (खाता) खोलना, रामनाम की बही लेना और रामनाम लिखना सबकुछ आसानी से किया जा सकता है; वह भी बिलकुल बैठे-बैठे। बही लेने पर इंटरनेट के बिना भी अर्थात ‘ऑफलाईन’ होते हुए भी रामनाम लिखने में बाधा नहीं आएगी इस बात का ध्यान ‘ऐप’ में रखा गया है। बही पूर्ण हो जाने पर उसे सहजता से अपने अकाऊंट में ‘ऐड’ होने की एवं खाता अपडेट करने की सुविधा भी ऐप में उपलब्ध है।

English मराठी


Store-AnjanaMata-Book.jpg

August 31, 2018

भगवंत से सामीप्य अधिक बढे तथा भक्तिमार्ग पर अधिकाधिक और रफ्तार से प्रगति हो सके, इसलिए सद्‍गुरु श्रीअनिरुद्धजी ने सन २०११ में ’श्रीवरदचण्डिका प्रसन्नोत्सव’ में ‘अनिरुद्धाज युनिवर्सल बैंक ऑफ रामनाम’ को एक अनोखा उपहार दिया और वह अनोखा उपहार था ‘अंजनामाता बही’। 

अंजनामाता के (आदिमाता अंजनी के) पुत्र हैं महाप्राण हनुमानजी। ये एकमात्र ‘हनुमानजी’ ही ऐसे हैं जिन्होंने ‘स्वाहा’ (पूर्ण समर्पण) एवं ‘स्वधा’ (पूर्ण स्वावलंबन, स्वयंपूर्णता) दोनों गुणों को धारण किया है। इसीलिए स्वधाकार प्राप्त करने हेतु ‘ॐ हरि मर्कटाय स्वाहा’ नामक मंत्र हनुमानजी के बाएं चरणतले लिखा जाएगा ऐसी रचना इस बही में की गई है।

 

अंजनामाता बही – जप संख्या

जाप जप संख्या
ॐ श्रीपंचमुखहनुमन्ताय आंजनेयाय नमो नम:।
ॐ हरिमर्कटाय स्वाहा।
श्रीमहाकुंडलिनी अंजनामाता विजयते।
ॐ अंजनीसुताय महावीर्यप्रमथनाय स्वाहा।
ॐ श्री रामदूताय हनुमन्ताय महाप्राणाय महाबलाय नमो नम:।

ramnam-bank-1280x640.jpg

August 31, 2018

Head Office Details

101, Link Apartments, Old Khari Village, Khar (W), Mumbai – 40052, Maharashtra, India

Email Address: aubr.ramnaam@gmail.com

Timing: Monday to Saturday – 11 am to 7.30pm  (Excluding Thursday)

              Thursday: Thursday 11 am to 4 pm

In case of any difficulty, You may contact at Head Office or Any Thursday At Shree Harigurugram


ramnam-bank-1280x640.jpg

August 30, 2018

‘रामनाम बही’ २२० पन्नों की है, जो भक्तों को आसानी से भगवत् नाम, गुरुनाम लिखने के साथ साथ नाम-उच्चारण का भी सुनहरा अवसर प्रदान करती है। इस बही के पहले १०८ पन्नों पर ‘राम’ नाम लिखना होता है। अगले हर २८ पन्नों पर क्रमश: ’श्री राम जय राम जय जय राम’, ‘कृष्ण’, ‘दत्तगुरु’ और ‘जय जय अनिरुद्ध हरि’ यह मंत्र लिखना होता है। रामनाम बही के प्रत्येक पन्ने पर भक्तिमार्ग के अग्रणी, प्रभु श्रीरामजी के दास ‘हनुमानजी’ की साक्षी से प्रत्येक नाम लिखा जाता है।

श्री हनुमानजी के आकृतिबंध में ‘राम’ नाम लिखने का महत्त्व बहुत ही अनोखा है। जब वानरसैनिकों को अपनी दुलारी जानकी माता को लंका से लाने के लिए ‘श्रीरामेश्वर से लंका’ तक ऐसा अभेद्य सेतु बनाना था तब स्थापत्य के अत्युच्च आचार्य भौम ऋषि से शिक्षा प्राप्त किए हुए नल और नील नामक वानरवीर इस सेतु को बनाने का कार्य आरंभ करते हैं। परन्तु कार्य की व्यापकता एवं दुर्गमता के मद्देनजर श्री हनुमानजी तुरंत आगे बढ़कर समुद्र में ड़ाले जानेवाले प्रत्येक पाषाण पर स्वयं ‘श्रीराम’ नाम लिखने लगते हैं। श्रीरामनाम से निर्जीव एवं भारी भरकम पाषाण भी पानी में डूबते नहीं बल्कि, तैरते हैं और उनके समुदाय से समुद्र पर सेतु बांधा जाता है। श्रद्धावान जब रामनाम बही लिख रहे होते हैं तब उनकी भी जन्मजन्मांतर की यात्रा में से अनेक सुंदर सेतु इसी तरह बडी सहजता से श्री हनुमानजी बँधवा लेते हैं, ऐसी श्रद्धावानों की भावना है।

इस रामनाम बैंक के महत्व के बारे में सद्गुरु श्री अनिरुद्ध कहते हैं, ‘अनिरुद्धाज्‌ युनिवर्सल बैंक ऑफ रामनाम’ भगवान के नामस्मरण का एक महामार्ग है जो सीधेसादे श्रद्धावान को भी सुखी जीवन की राह पर ले जाता है, उसे एक मजबूत आधार देता है।

इस तरह से जप लिखने का करोडों गुना लाभ सभी श्रद्धावान मित्रों को भी मिले इस तडप के कारण ही सद्गुरु श्रीअनिरुद्धजी ने यह रामनाम बही दी है।

रामनाम बही के पाँचों मंत्र जागृत हैं, रसमय हैं। हनुमानजी चिरंजीव हैं और वे निरंतर रामनाम जपते रहते हैं। जब हम रामनाम का उच्चारण करते हैं तब वह रामनाम अपनेआप हनुमानजी के उच्चारण में समाविष्ट हो जाता है। संक्षिप्त में, रामनाम बही लिखनेवाले हम अकेले नहीं होते बल्कि, यह नाम ‘जो’ निरंतर उच्चार रहे हैं उन हनुमानजी से हम सहजता से जुड़ जाते हैं, यह महत्त्वपूर्ण लाभ रामनाम बही लिखने से हमें मिलता है।

कुछ विशेष अवसरों पर अर्थात जन्मदिन, शादी -ब्याह के निमित्त अथवा अपने आप्तों के सुख एवं समृद्धि की प्राप्ति हेतु उनके नाम बही लिखकर जमा की जा सकती है। सद्‍गुरु ने इस रामनाम बैंक की ऐसी रचना कर रखी है कि, जो श्रद्धावान यह बही लिखता है उसे भी तथा जिसके नाम यह बही लिखी जाती है उसे भी इसका लाभ होगा। श्रद्धावानों की ऐसी भावना है कि, मृत व्यक्ति के नाम यदि रामनाम बही लिखी जाती है तो उस मृत व्यक्ति को आगे अधिक अच्छी गति प्राप्त होती है।

रामनाम बही लिखते समय लिखनेवाले के हाथों से नवविधा भक्ति में से श्रेष्ठ ‘श्रवण’ भक्ति होती ही है क्योंकि, नाम लिखते समय आँखों से वह पढ़ा भी जायेगा, मन से जप उच्चारा जाएगा और साथ ही साथ उसका सहज ही श्रवण भी होगा, इसीलिए रामनाम बही सहज भक्ति, ध्यान का पवित्र साधन है।

 

रामनाम बही – जप संख्या

जाप जप संख्या
राम
श्री राम जय राम जय जय राम
कृष्ण
दत्तगुरु
जय जय अनिरुद्ध हरि

AUBR_BENIFITS-1.jpg

August 30, 2018

‘रामनाम’ और इसके साथ ही साथ अन्य जप लिखना ही इस अनोखी बैंक का भक्तिचलन है। कम से कम एक बही लिखकर जमा करने पर इस बैंक की सदस्यता पाई जा सकती है। सदस्य बनने पर प्रत्येक श्रद्धावान को एक पासबुक दिया जाता है।

सद्‌गुरु श्री अनिरुद्ध (बापू) कहते हैं कि, “श्रद्धावान को जब संकट की घड़ी में मदद की, आधार की वास्तव में जरूरत होती है, तब सद्‌गुरुतत्त्व, वह परमतत्व उसे इस ’भक्ति बैंक’ से आवश्यकता अनुसार सहायता निश्चितरूप से प्रदान करेंगे।” जिसका उसके सद्‌गुरु पर जितना प्रेम है उसे उतने प्रमाण में भक्तिरुपी ब्याज सहायता स्वरूप प्राप्त होता है।

बैंक के कामकाज का वर्ष अनिरुद्ध पूर्णिमा (कार्तिक पूर्णिमा) से अनिरुद्ध पूर्णिमा (कार्तिक पूर्णिमा) तक है। सभी ‘सद्‌गुरु अनिरुद्ध उपासना केन्द्र’ इस बैंक की शाखाएँ हैं। यह बैंक युनिवर्सल होने के कारण श्रद्धावान अपनी लिखकर पूरी की गई बही किसी भी शाखा में जमा करा सकते हैं।

हर किसी को अपनी बही स्वयं ही लिखकर पूर्ण करनी होती है। रामनाम बही के पहले पन्ने पर (अर्पण पत्रिका पर) अपना पूरा नाम, खाता क्रमांक तथा बही किसके लिए लिखी गई है यह जानकारी होती है। श्रद्धावानों द्वारा इस तरह जमा की गई प्रत्येक बही के पहले पन्ने (अर्पण पत्रिकाएं) हर महीने की पूर्णिमा के दिन अथवा एकादशी के दिन एकसाथ पूजे जाते हैं।

एक वर्ष में श्रद्धावानों द्वारा कम से कम १८ बहियाँ जमा किए जाने पर उन्हें उस वर्ष के लिए बैंक की सदस्यता प्रदान की जाती है। खाता खोलने के दिन से लेकर पहले पाँच वर्षों में १५० बहियाँ जमा करने पर श्रद्धावान बैंक का आजीवन सदस्य बन जाता है। बही लिखनेवाले श्रद्धावान द्वारा निश्चित संख्या में बहियां जमा कराने पर विशिष्ठ लाभ प्राप्त होते हैं। श्रद्धावानों द्वारा जमा की गई इन रामनाम बहियों से ही गणेशमूर्तियां एवं सच्चिदानंद पादुकाएं बनाई जाती हैं। इसीलिए यह अनिरुद्धाज्‌ युनिवर्सल बैंक ऑफ रामनाम भक्ति के पवित्र साधन के साथ साथ प्रत्यक्ष जीवन में अपने इर्दगिर्द पर्यावरण की सुरक्षा में भी महत्त्वपूर्ण योगदान प्रदान करता है।

सद्‌गुरु श्री अनिरुद्ध द्वारा २००५ में शुरु की गई इस अनोखी बैंक के खाताधारक बनकर आज की तारीख में लाखों श्रद्धावान  भक्तिमार्ग की सहज, आसान यात्रा का आनंद उठा रहे हैं

 

English

मराठी

 



Contact Us

Address:

101, Link Apartments, Old Khari Village, Khar (W), Mumbai – 40052, Maharashtra, India

Email Address: aubr.ramnaam@gmail.com

Timing: Monday to Saturday – 11 am to 7.30pm  (Excluding Thursday)

              Thursday: Thursday 11 am to 4 pm